您的当前位置:首页 >प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि >हनुमान चालीसा पढ़ने वाले हिंदूवादी नेता और मुस्लिम युवकों पर FIR, वायरल हुआ था वीडियो 正文

हनुमान चालीसा पढ़ने वाले हिंदूवादी नेता और मुस्लिम युवकों पर FIR, वायरल हुआ था वीडियो

时间:2023-11-30 08:34:27 来源:网络整理编辑:प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि

核心提示

यूपी केअलीगढ़ (Aligarh)में अखिल भारतहिंदू सेना के जिला अध्यक्ष सचिन शर्मा और मुस्लिम युवकों के खिलाफ

यूपी केअलीगढ़ (Aligarh)में अखिल भारतहिंदू सेना के जिला अध्यक्ष सचिन शर्मा और मुस्लिम युवकों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. मामलामुस्लिमों को मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ाए जाने से जुड़ा है,हनुमानचालीसापढ़नेवालेहिंदूवादीनेताऔरमुस्लिमयुवकोंपरFIRवायरलहुआथावीडियो जिसका वीडियो सामने आया था. सभी के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को आहात करने का आरोप है.हनुमान चालीठा पाठ किए जाने का वीडियो वायरल हुआ था. इसके बाद से ही मामला तूल पकड़ाताजा रहा है. मुस्लिम युवकों का कहना है कि उन्होंने अपनी स्वेच्छा से पाठ किया है. पुलिस ने मामले की जांच करने की बात कही है.इगलास क्षेत्र के हस्तपुर चौकी के चंदफरी गांव के एक मंदिर का एक वीडियो वायरल हुआ था. इसमें शनिवार कोकुछ लोग हनुमान मंदिर में बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे थे। इसमें एक अखिल भारतीय हिंदू सेना का जिला अध्यक्ष सचिन शर्मा को मुस्लिम युवकों को हनुमान चालीसा का पाठ कराते हुए देखा गया था.वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए पुलिस ने आरोपी सचिन शर्मा, उसका साथ देने वाले मुस्लिम युवकों दीन मोहम्मद, जमील, अख्तर सहित तीन अज्ञात को आरोपी बनाया है. उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 295 ए, 153ए, 34 के तहत मामला दर्ज किया है.यह एफआईआर इगलास थाना के हस्तपुर पुलिस चौकी के इंचार्ज मनीष कुमार की तरफ से दर्ज कराई गई. इसमें आरोप लगाया गया है ''इन लोगों ने धार्मिक स्थलहनुमान चालीसा पढ़ने का प्रयास किया. आम जनमानस की भावना को ठेस पहुंचाई और सांप्रदायिक भावनाएं भड़काने का प्रयास किया है.''हनुमान चालिसा मामले परअखिल भारतहिंदू सेना के जिला अध्यक्ष सचिन शर्मा ने कहा है कि वे मुस्लिमों को सनातन धर्म के प्रति जागरुक करने का काम कर रहे हैं. मुस्लिम संगठनों को टीस हो रही है कि हमारे मुस्लिम भाइयों ने हनुमान चालीसा का पाठ किया.सचिन शर्मा का कहना है कि आय दिन सोशल मीडिया पर पीएम मोदी, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ गलत भाषा का उपयोग किया जाता है. हाल ही में एएमयू में गलत कमेंटबाजी हुई थी. ऐसे लोगों की मानसिकता आतंकवादियों वाली है.मैं ऐसे लोगों से कहना चाहता हूं किहमारे हिंदुस्तान में सबसे पहले सनातन धर्म है, सनातन धर्म रहेगा.मैं सीधे चेतावनी देना चाहता हूं कि हिंदुस्तान में अगर रहेंगे, तो वंदे मातरम के नारे लगाने पड़ेंगे.सचिन ने यह भी कहा ''इनकी बयानबाजी से गुस्से में आकर मैंने हस्तपुर के प्राचीन हनुमान मंदिर खेरेश्वर धाम में मुस्लिम युवकों को पाठ कराया. मगर, इसमें सभी की मर्जी थी. अब मेरा उद्देश्य शिवा चालीसा का पाठ कराने का है."उन्होंने कहा,इस कार्यक्रम में बहुत बड़े पर गैर-समुदाय के लोगों से भी पाठ कराया जाएगा. यहां 900 से ज्यादा मुस्लिम रहते हैं. पास के गांव में भी कई मुस्लिम परिवार हैं. इन सभी को मैंने हनुमान चालीसा का पाठ पढ़वाया है.वायरल वीडियो में अख्तर नाम कामुस्लिम युवक भी हनुमान चालीसा पढ़ते हुए नजर आया है.उसके खिलाफ भी पुलिस ने केस दर्ज किया है. अख्तर नेअपनी मर्जीसे हनुमान चालीसा का पाठ करने की बात कही है.अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय मेंसुन्नी थियोलॉजी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष औरमुस्लिम धर्मगुरु मुफ्ती जाहिद अली खान ने कहा ''हनुमान चालीसा हो या जो भी चीज हो, उसे कोई भी अपनी मर्जी से पढ़ता है, तो उसमें कोई रुकावट नहीं है."उन्होंने आगे कहा,"हमारे हिंदू भाई जो खुद को हिंदू या सनातनी कहते हैं वह इसको करते रहते हैं उनपर कोई पाबंदी नहीं है. लेकिन सचिन शर्मा ने बयान में कहा है कि उसने इन्हें पाठ करवाया है, यह गलत है.''उन्होंने आगे कहा '' सचिन शर्मा ने अपने बयान में कहा कि भारत में रहना है, तो वंदे मातरम कहना होगा. यह जबरदस्ती में आता है.संविधान में किसी को जबरदस्ती कोई बात कहलाना गलत है. फिर चाहे उसका नाम अखिल भारत हिंदू सेना हो या हिंदू महासभा हो या और कोई नया नाम चाहे मुसलमान यह गलती करे, चाहे ईसाई करे,चाहे कोई दूसरा नाम रखकर यह यह काम कराए, यह गलत है.''